बाबरी मस्जिद इतिहास के आईने में – क़िस्त 4

बाबरी मस्जिद इतिहास के आईने में

क़िस्त 4

मोहम्मद हसरत रहमानी

पूर्व इंटेलिजेंस ब्यूरो के संयुक्त निदेशक मालवे कृष्णा ढार का दावा है कि बाबरी मस्जिद की शहादत की योजना उसके दस महीने पहले ही बना ली गई थी। कृष्णा ढार ने तत्कालीन प्रधानमंत्री नरसिम्हा राव की भी आलोचना की कि उन्होंने इस मुद्दे को नजरअंदाज किया। उनका यह भी दावा है कि नरसिम्हा राव को भाजपा/संघ परिवार की एक बैठक की भी जानकारी थी, जिसमें मस्जिद के विध्वंस और हिंसक कार्रवाई की योजना बनाई गई थी। इस बैठक में मौजूद नेताओं ने मिलकर अनुशासन के साथ काम करने का संकल्प लिया। पूर्व संयुक्त निदेशक ने आगे दावा किया है कि इस बैठक की कैसेट प्रधानमंत्री नरसिम्हा राव और गृह मंत्री चव्हाण को भी दिखाई गई होगी। उनके अनुसार यह एक गुप्त समझौता था कि इससे कट्टरपंथी विचारधारा को राजनीतिक लाभ मिलेगा। (प्रेस ट्रस्ट ऑफ इंडिया। 30 जनवरी 2005)

अप्रैल 2014 में कोबरा पोस्ट के एक स्टिंग ऑपरेशन में बताया गया है कि मस्जिद की शहादत केवल एक उत्तेजित भीड़ की कार्रवाई नहीं थी; बल्कि एक सुनियोजित प्रयास था, जिसकी तैयारी कई महीने पहले से चल रही थी। (IANS। news.biharprabha.com। 25 दिसंबर 2018)

आनंद पटवर्धन की डॉक्यूमेंट्री “राम के नाम” में भी बाबरी मस्जिद के विध्वंस से पहले की घटनाओं की समीक्षा की गई है:
“RAM KE NAAM”: FILM about Babri Masjid and Ram Janm-Bhoomi (With ENGLISH Subtitles) – YouTube

बाबरी मस्जिद के विध्वंस के अपराधियों की जांच के लिए गठित लिब्रहान आयोग ने 16 साल की 399 बैठकों के बाद 1029 पन्नों पर फैली लंबी रिपोर्ट प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को 30 जून 2009 को पेश की। (NDTV23 नवंबर 2009)

यह रिपोर्ट बताती है कि 6 दिसंबर 1992 को अयोध्या में जो कुछ हुआ वह न तो अचानक हुआ और न ही अनियोजित था। (हिंदुस्तान टाइम्स। 24 नवंबर 2009)

मार्च 2015 में सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दायर की गई, जिसमें आशंका जताई गई कि चूंकि अब भाजपा सत्ता में है, इसलिए जांच एजेंसियां ​​एलके आडवाणी सहित अन्य भाजपा नेताओं के खिलाफ निष्पक्ष जांच नहीं कर सकतीं। (25 दिसंबर 2018 को अस्ल से आर्काइव्ड)
(जारी)

उर्दू से हिन्दी: मुहम्मद अतहर क़ासमी

उर्दू में पढ़ें  (क़िस्त  4)

1 thought on “बाबरी मस्जिद इतिहास के आईने में – क़िस्त 4”

  1. Pingback: बाबरी मस्जिद इतिहास के आईने में - क़िस्त 7 (आख़िरी क़िस्त)

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top